CACHE MEMORY KYA HAI

CACHE MEMORY KYA HAI

Spread the love

नमस्कार दोस्तों आज हम बात करने वाले है कैश मेमोरी के बारे की CACHE MEMORY KYA HAI और यह कितने प्रकार की होती है ?और यह कंप्यूटर मे कहा होती है और इसका क्या उपयोग होता है ?


COMPUTER MEMORY KYA HAI OR KITNE PRAKAR KI HOTI HAI ?
ROM KYA HAI OR KITNE PRAKAR KI HOTA HAI ?
COMPUTER GK

          

आज का युग स्मार्ट फ़ोन का युग है यहाँ हर कोई स्मार्ट फ़ोन यूज कर रहा है और जब भी हम कोई फ़ोन  या  लेपटोप  डेस्कटॉप लेने जाते है  तो मेमोरी की चर्चा जरूर करते है क्योकि फ़ोन   हो या लेपटोप कंप्यूटर   मेमोरी जितनी ज्यादा होगी हमारा डिवाइस  उतना ही अच्छा चलेगा और यह सही भी है पर फ़ोन की या लेपटोप की मुख्य मेमोरी से भी ज्यादा तेज कैश मेमोरी होती है तो यह मेमोरी भी हमारी डिवाइस के लिए उतनी ही जरूरी है जितनी मुख्य मेमोरी –

CACHE MEMORY KYA HAI और यह कितने प्रकार की होती है ?

आइये दोस्तों बात करते है CACHE MEMORY KYA HAI  है कैश मेमोरी वह मेमोरी होती है कंप्यूटर की मेमोरी यूनिट की बात करे तो यह तीन प्रकार की होती है जिसमे प्राइमरी मेमोरी यूनिट और सेकेंडरी मेमोरी यूनिट और तीसरी कैश मेमोरी  होती है प्राइमरी मेमोरी यूनिट के अंतर्गत RAM और ROM आते है तथा सेकेंडरी मेमोरी यूनिट के अंतर्गत हार्डडिस्क और CD/ DVD होती है जब हम कंप्यूटर को कोई कमांड देते है तो कंप्यूटर डेटा को एक्सेस करने के लिए सबसे पहले कैश मेमोरी में चेक करता है अगर उसे वहा सूचना नही मिलती है तो  कंप्यूटर RAM में चेक करता है अगर उसे वहा भी सुचना नही मिलती है तब वह हार्डडिस्क में चेक करता है 

जब हम कंप्यूटर को कोई कमांड देते है तो कंप्यूटर कमांड से जुडी सूचना को एक्सेस करने के लिए सबसे पहले जिस स्टोरेज डिवाइस में सर्च  करता है वह कैश मेमोरी ही होती है यह अत्यधिक तेज स्टैटिक रैम चिपों का उपयोग करती है  यह जितनी स्टोरेज क्षमता में कम होती है उतनी ही गति में तेज होती है इसकी गति का अंदाजा हम इस तरह लगा सकते है की यह  कंप्यूटर को ram से डाटा पढ़ने में 180  नेनो सेकंड लगते है और जब कंप्यूटर कैश मेमोरी से डेटा को पढता है तो उसे केवल 45 नेनो सेकंड का टाइम लगता है  कंप्यूटर में होने वाले RECENT प्रोग्राम या सुचनाए इसी में सेव होती है जिससे कंप्यूटर तुरंत एक्सेस कर लेता है यह भी कंप्यूटर की अस्थाई मेमोरी है जिसमे डेटा परमानेंट स्टोर नही होता है यह मेमोरी कंप्यूटर  के माइक्रोप्रोसेसर में लगी होती है यह 3MB भी हो सकती है 4MB और 8MB भी हो सकती है कंप्यूटर की प्राइमरी और सेकेंडरी मेमोरी को बढाया जा सकता है पर कैश मेमोरी को नही बढाया जा सकता है 

CACHE MEMORY KYA HAI

CACHE MEMORY कितने प्रकार की होती है ?

CACHE MEMORY तीन प्रकार की होती है 

लेवल 1 या  L1 कैश मेमोरी

यह कैश मेमोरी  का एक भाग है कंप्यूटर सबसे पहले सूचना कैश मेमोरी के इसी भाग में सर्च करता है इसका साइज़ काफी कम होता है लगभग 64 KB या उससे भी कम होता है यह multicore प्रोसेसर की एक कोर L1 से  साझा करती है  !

लेवल 2 या  L2 कैश मेमोरी

यह भी कैश मेमोरी  का भाग है जब CPU  को लेवल 1 या  L1 CACHE  MEMORY से सूचना नही मिलती है तब CPU CACHE  मेमोरी के इस भाग में सूचना को सर्च करता है या साइज़ में L1 से ज्यादा तथा स्पीड में कम होती है यह लगभग 512KB  की या उससे कम होती है यह multicore processor की दूसरी कोर L2 से साझा करती है !

लेवल 3 या  L3 कैश मेमोरी

यह भी कैश मेमोरी का भाग है जिसे L3 से प्रदर्शित करते है यह multicore processor की सभी कोर से साझा करती है यह साइज़ में 8 MB  या उससे कम की होती है इसकी गति L1 और L2 से कम होती है !

 

 

इस लेख में हमने जाना की CACHE MEMORY KYA HAI और यह कितने प्रकार की होती है ? तथा  यह हमारे कंप्यूटर के लिए कितनी  जरूरी है तो दोस्तों आशा करता हु  यह आर्टिकल आपके लिए हेल्पफुल  साबित होगा और हमारी हमेशा यही कोशिश रहेगी की आपके लिए टेक्नोलॉजी से जुडी जानकारिया उपलब्ध करते रहे  कंप्यूटर टेक्नोलॉजी ,इन्टरनेट से जुडी जानकारी के लिए हमारे ब्लॉग पर विजिट करते रहीए !